About Me

header ads

वन कर्मियों कि चुनाव में एक साथ दो जगह ड्युटी, असमंजस कि स्थिति

वन कर्मियों कि चुनाव में एक साथ दो जगह ड्युटी
 24 वन कर्मियों के सामने असमंजस कि स्थिति
बूंदी। पंचायत चुनाव में वन विभाग के 24 कार्मिकों की ड्यूटी मतदान दल व पुलिस के जाप्ते में लगाने से इन वन कर्मियो के सामने असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है कि आखिर में वह कहां ड्यूटी करें। जानकारी के अनुसार वन विभाग के वनरक्षकों की प्रथम, द्वितीय व तृतीय चरण के लिए चुनाव में ड्यूटी लगाई गई है। जिसमें प्रथम चरण की ड्यूटी करने के बाद द्वितीय व तृतीय चरण के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी के बाद उप वन संरक्षक के आदेशों से कर्मचारियों के सामने असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गई है। वन विभाग ने इन्हें शनिवार रात्रि को ही चुनाव हेतु पदस्थापन स्थान से रिलीव कर दिया गया। लेकिन कर्मचारी यह नहीं समझ पा रहे हैं कि उनको ड्यूटी के लिए कहां जाना चाहिए। क्योंकि एक जगह जाते हैं तो दूसरी जगह उनकी गैर हाजिरी दर्ज होती है तथा अधिकारियों कि निगाह में डाले बिना उनके एक जगह ड्युटी पर जाने से दूसरी जगह की चुनाव व्यवस्था पर भी प्रभाव पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में कर्मचारी समस्या के समाधान के लिए रविवार को जिला कलेक्टर पहुंचे, लेकिन अवकाश होने के कारण वहां कोई अधिकारी नहीं मिलने से उन्हें निराश होकर ही लौटना पड़ा।
निर्वाचन अधिकारी व उप वन संरक्षक के अलग-अलग आदेश 
जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा द्वितीय चरण व तृतीय चरण के लिए इन वन कर्मियों को मतदान दल के लिए प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षित मतदान कर्मियों को द्वितीय व तृतीय चरण के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा मतदान दल में शामिल होने का आदेश जारी किया था। लेकिन जिला उप वन संरक्षक की ओर से जारी आदेश शनिवार शाम को कर्मचारियों के मोबाइल पर पहुंचें जिसमें इन कर्मचारियों को पुलिस लाइन में जाकर 19 जनवरी को जाप्ते के लिए उपस्थिति दर्ज करवाने के लिए कहा गया है। वन कार्मिकों का कहना है कि 19 तारीख को अगर वह पुलिस लाइन में जाकर उपस्थिति दर्ज करवाते हैं तो उन्हें मतदान दल में उपस्थिति की जगह अनुपस्थिति दर्ज होगी। कार्मिको का कहना हैं कि एक आदेश निरस्त हो ताकि स्थिति स्पष्ट हो सके। जिससे हम निर्वाचन विभाग द्वारा जहां भेजा जाये बिना किसी भ्रम के अपनी डृयुटी कर सके।
                                                                                            इनका कहना है
                                                                                      निर्वाचन विभाग जिसे चाहे जहां काम ले,
                                                                              कार्मिकों को जहां उनकी ड्यूटी है भेज दिया गया है।
                                                                                                   सभी अपने स्थानों पर पहुंच चुके हैं।
                                                                                                                    सुरेश मिश्रा
                                                                                                             उप वन संरक्षक, बूंदी

 ड्यूटी में कहीं कोई चूक हुई है तो ऐसे कर्मचारियों कि
 ड्यूटी से नाम उप जिला निर्वाचन अधिकारी हटा सकते हैं।
                मुरलीधर प्रतिहार
          सीईओ जिला परिषद, बूंदी


                                             कहीं कोई बात है तो उसे देखेंग,े सोमवार को समाधान करवा दिया जाएगा।
                                                                                                                          राजेश जोशी
                                                                                                      उप जिला निर्वाचन अधिकारी, बूंदी

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां